Tuesday 29 January 2008

हो सकती है हत्या आडवाणी और मोदी की

भाजपा के दो नेता लाल कृष्ण आडवाणी और नरेन्द्र मोदी की हत्या की जा सकती है। ऐसी चर्चा जोरों पर है। कहा जा रहा है कि ‘रॉ’ ने केन्द्रीय गृह मंत्रालय को खबर दी है कि अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम पाकिस्तान की खुफिया ऐजेंसी आई एस आई के शह पर प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार भाजपा नेता आडवाणी और गुजरात के मुख्यमंत्री मोदी की हत्या करवा सकता है।
पाकिस्तान इन दिनों खुद के तैयार किये हुये आंतकवादियों से परेशान है। इस लिये संभवत: पाकिस्तान के लोगों का ध्यान समास्याओं की ओर से हटाने के लिये भारत में बड़े नेताओं की हत्या करवाने की तैयारी कर रहा है। इसके लिये उसे दाउद से बढिया मोहरा नहीं मिल सकता क्योंकि दाउद इन दिनों पाकिस्तान की खुफिया ऐजेंसी आई एस आई की मर्जी के खिलाफ पूरे परिवार के साथ कहीं भी आ – जा नहीं सकता है इस लिये दाउद इब्राहिम का अगर कोई बॉस है तो वह आईएसआई प्रमुख हीं है।ऐसे में दाउद इब्राहिम के लिये आईएसआई की बात को नहीं मानना आसान नहीं होगा।
जानकार बताते हैं कि 1992-93 मुंबई दंगे के बाद भी आडवाणी की हत्या करवाने की चर्चा हुई थी लेकिन दाउद ने इसके लिये हरी झंडी नहीं दी थी। उस समय दाउद अपने मन का मालिक था लेकिन आज दाउद के ऊपर आईएसआई है। इसलिये किसी भी अनहोनी को नकारा नहीं जा सकता।

3 comments:

vijayshankar said...

इन दोनों को अगर मार दिया जाए तो अच्छा होगा. बाल ठाकरे इन दोनों से अच्छे है. वह कम से कम ईमानदार तो हैं,

अनुनाद सिंह said...

मुझे भी यही लगता है कि इन्हें मार देना चाहिये। यदि ऐसा नहीं हुआ तो भारत में जेहादी और 'मिशनरी' मंसूबे कामयाब नही हो सकेंगे।

vijayshankar said...

अनुनाद जी. हा. हा. हा! आपकी ही तर्ज़ पर- अगर ये नहीं रहेंगे तो भारत को 'हिन्दुस्थान' (हिन्दुस्तान नहीं) कौन बनाएगा? दलितों, सिखों, ईसाइयों और वरीयता क्रम में सबसे पहले मुसलमानों का सफाया कर हिन्दू राष्ट्र की स्थापना कौन करेगा? इन्होंने पूर्व में अपने-अपने कारनामों से इस दिशा में कुछ पहल तो कर ही दी है. ख़ुद तलवार लेकर निकलने से घातक ऐसी प्रवृत्तियों का समर्थन होता है.